1. झारखण्ड राज्य की स्थापना 14 नवंबर 2000 ई को बिहार से अलग करके बनाया गया। आईये जानते है यह राज्य अलग राज्यों की तुलना में अलग क्यों है। 

2. यह राज्य कोयला, हेमेटाइट (लौह अयस्क), मैग्नेटइट, चूना पत्थर, बाॅक्साइड, आदि खनिज सम्पदाओं से भरा पड़ा है। 

3. झारखण्ड के मुख्य पर्यटन स्थल छिनमस्तिका मंदिर रजरप्पा, देवघर वैधनाथ मंदिर, पारसनाथ, पतरातू डैम,दलमा अभयारण्य, हुंडरू जलप्रपात है। 

4.  यहाँ ३२ जातिया मूलवासी है, जिनमें संथाल, उरांव, मुंडा, हो, महली, भूमिज, चेरो, खड़िया, बिरहोर, लोहरा, करमाली बस कुछ हैं।

5. यहां के मूलवासियों की जीवनशैली और मान्यताएं बिहार के मूलवासियों से अलग हैं। ये सरना धर्म को मानते हैं जो प्रकृति पूजन पर आधारित है।

6. यहां पर मधुबनी, नालंदा, मगध का प्रभाव नागवंशी और चेरो राजवंश की अपेक्षा कम रहा।

7. यहाँ सरहुल, सोहराय, माघे पर्व जैसे प्रकृति से जुड़े पर्वों को मनाया जाता है। 

8. तीनों दृष्टिकोण से झारखण्ड और छोटनागपुर पठार एक ऐसी जगह है जहाँ तीन भिन्न धाराओं का संगम हैं - छत्तीसगढ़, बंगाल, ओडिशा |